Ticker

6/recent/ticker-posts

Ad Code

वैज्ञानिकों ने खोजे तबाही मचाने वाले कोरोना के तीन रूप, ज्यादातर देशों में टाइप-बी और टाइप-सी स्ट्रेन से फैला वायरस


कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने कोरोनावायरस के ऐसे 3 स्ट्रेन्सका पता लगाया है जिन्होंने पूरी दुनिया में संक्रमण फैलाया है। इन्हें टाइप-ए, बी और सी नामदिया गया है। शोधकर्ताओं ने संक्रमित हुए इंसानों में से वायरस के 160 जीनोम सीक्वेंस की स्टडी की। ये सीक्वेंस अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया में फैले कोरोनावायरससे काफी हद तक मिलते-जुलते थे, न कि वुहान से। ये वायरस के वो स्ट्रेन थे जो चमगादड़ से फैले कोरोनावायरस से मिलते थे।

दिसम्बर से मार्च के बीच लिए सैम्पल

रिसर्च टीम ने 24 दिसम्बर 2019 से 4 मार्च 2020 के बीच दुनियाभर से सैम्पल लेकर डाटा तैयार किया। नए कोरोनावायरस के तीन ऐसे प्रकार मिले जो एक-दूसरेजैसे होने के बावजूद अलग थे। जैसे-
  • टाइप-ए: यह कोरोनावायरस का वास्तविक जीनोम था, जो वुहान में मौजूद वायरस में है। इसका म्यूटेशन हुआ और उनमें पहुंचा जो अमेरिकन वुहान में रह रहे थे।यहां से लौटने वाले अमेरिकी और ऑस्ट्रेलिया के लोगों में यही वायरस उनके देशों में पहुंचकर फैला।
  • टाइप-बी : पूर्वी एशियाई देशों में कोरोनायरस का यह स्ट्रेन सबसे फैला। हालांकि यह स्ट्रेन एशिया से निकलकर दूसरे देशों में अधिक नहीं पहुंचा।
  • टाइप-सी: यह स्ट्रेन खासतौर पर यूरोपीय देशों पाया गया। इसके शुरुआती मरीज फ्रांस, इटली, स्वीडन और इंग्लैंड में मिले थे। रिसर्च के मुताबिक, इटली में यहवायरस जर्मनी से पहुंचा और जर्मनी में इसका संक्रमण सिंगापुर के लोगों के जरिए हुआ।


वायरस में तेजी से बदलाव हुआ

शोधकर्ता डॉ. पीटर फॉर्सटर के मुताबिक, रिसर्च के दौरान नए कोरोनावायरस के पूरे समूह की पड़ताल की गई। इनमें काफी तेजी से म्यूटेशन हुआ है। किसी स्थानया वहां के वातावरण या अन्य कारणों से वायरस की कोशिका, डीएनए और आरएनए में होने वाले बदलाव को म्यूटेशन कहते हैं। रिसर्च के दौरान शोधकर्ताओं नेमैथमेटिकल नेटवर्क एल्गोरिदिम की मदद से कोरोना के पूरे परिवार का खांका खींचा।

भारत में कोरोनावायरस सिंगल म्यूटेशन में

काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च के विशेषज्ञ डॉ. सीएच मोहन राव ने कहा, भारत में कोरोनावायरस सिंगल म्यूटेशन में है। इसका मतलब हैकोरोनावायरस अपना रूप नहीं बदल पा रहा है। अगर ये सिंगल म्यूटेशन में रहेगा तो जल्दी खत्म होने की सम्भावना है। लेकिन अगर वायरस का म्यूटेशन बदलताहै तो खतरा बढ़ेगा और वैक्सीन खोजने में भी परेशानी होगी।

पहली बार नेटवर्क एल्गोरिदिम का प्रयोग हुआ

शोधकर्ताओं का दावा है कि यह पहली बार है जब संक्रमण की पूरी चेन पता लगाने के लिए मैथमेटिकल नेटवर्क एल्गोरिदिम का इस तरह प्रयोग किया गया है। आमतौर पर इस तकनीक का प्रयोग इंसान की हजारों साल पुरानी प्रजाति के बारे में पता लगाने के लिए किया जाता है। इसमें डीएनए अहम रोल निभाता है। कोरोना के मामले में जीनोम सीक्वेंस की भूमिका भी डीएनए की तरह ही है।

जर्नल प्रोसीडिंग्स ऑफ द नेशनल अकेडमी ऑफ साइंस के मुताबिक, जो वायरस चमगादड़ और पैंगोलिन में मिला है उसका जुड़ाव टाइप-ए से है। टाइप-बी का म्यूटेशन ए से हुआ है। टाइप-सी बी से विकसित हुआ है।
साभार: metro.co.uk

Click here to see more details


Bihar.                  Bollywoodnews

ChandigarhHimachal

                    Chhattisgarh News

Delhi News.               Enter National

Haryana.                    Health news

                     Jharkhand News

Lifestylenews

             Madhya Pradesh

National.                Punjab News

Rajasthan News.            Sportsnews

Utar Pradesh

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां